Tag Archives: ptc

Guidelines for PTC – पीटीसी के लिए दिशा-निर्देश

What are parent-teacher conferences (PTC)? अभिभावक-शिक्षक सम्मेलन (PTC) क्या हैं?
Parent-teacher conferences are short (10 -15 Minutes) one to one session between parent and teacher that are formally arranged by the school twice in a year usually on Saturday. The PTCs are a valuable tool to help a parent and  child’s teacher(s) work together for child’s success. This is a great  opportunity for parents to ask questions and gather information that  will help them to encourage their children to achieve success. Common agenda points to discuss in PTCs will include going through the important achievements, goals set, issues with academics or behavior etc.

अभिभावक शिक्षक सम्मेलन आम तौर पर वर्ष में दो बार प्रायः शनिवार को आयोजित किये जाते हैं, जिसमे माता-पिता और शिक्षक के बीच १०-१५ मिनट के छोटे सत्र होते है। यह सम्मेलन बच्चे की सफलता के लिए अभिभावक व् शिक्षक को साथ में कार्य करने में एक मददगार साधन है। अभिभावकों के लिए यह एक अच्छा अवसर है जब वे अपने प्रश्न पूछ सकते हैं और जानकारी प्राप्त कर सकते हैं जिससे वे अपने बच्चे को सफलता के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं। सम्मेलन में चर्चा की सामान्य कार्यसूची में सम्मिलित बिंदु इस प्रकार हैं, प्रमुख उपलब्धियां, नियत लक्ष्य, अकादमिक गतिविधियों से सम्बंधित प्रश्न और व्यवहार इत्यादि।

How parent-teacher conferences are conducted? अभिभावक-शिक्षक सम्मेलन कैसे संचालित की जाती हैं?
Parents are informed at the starting of the session through a circular about the frequency of the PTCs during the year. The PTCs are generally conducted in the classroom. Different time slots have been allotted to the parents according to set time limit and number of students in the class.

सत्र के आरम्भ में अभिभावकों को सम्मेलन की आवृत्ति के बारे में सूचना दे दी जाती है। सम्मेलन आमतौर पर कक्षा में आयोजित किये जाते हैं। अभिभावकों को कक्षा में विद्यार्थियों की संख्या के अनुसार निर्धारित समय आवंटित कर दिया गया है।

Why the PTCs are important? अभिभावक-शिक्षक सम्मेलन क्यों आवश्यक है?

It is very important to have good relationships between parents and teacher because the goals for the child are indeed shared goals; both teacher and parent want what is best for the child/student. By conducting these sessions with parents Teacher gets opportunity to
discuss the child’s learning progress and by attending, parents can show that they are interested and prepared to participate in and support their child’s learning.

The PTC will give you feedback on your child’s performance and progress.Also it is chance for parents to find out how their child is getting along in school and what is going on inside the classroom. Since the parents are considered as primary educator, they can contribute a lot to the discussions and decisions of their child’s progress.

अभिभावक व् शिक्षक के बीच अच्छे सम्बन्ध होना अत्यंत आवश्यक है क्योकि बच्चों के लक्ष्य बंटे हुए लक्ष्य हैं। अभिभावक व् शिक्षक दोनों ही बच्चे के लिए सर्वश्रेष्ठ चाहते हैं। अभिभावकों के साथ ऐसे सत्र आयोजित करने से शिक्षकों को अवसर मिलता है कि वे बच्चे के विकास के बारे में चर्चा कर सकें, और उपस्थित होने से अभिभावक भी यह दर्शा सकते हैं कि बच्चे के विकास में वे रूचि लेते हैं।

सम्मेलन में आपको आपके बच्चे के प्रदर्शन और विकास के बारे में जानकारी दी जाएगी। साथ ही अभिभावकों के लिए यह जानने का अवसर है कि उनका बच्चा विद्यालय में कैसा प्रदर्शन कर रहा है और कक्षा के अंदर क्या चल रहा है। चूंकि अभिभावक प्राथमिक शिक्षाविद माने जाते हैं, वे बच्चों की चर्चा व् निर्णय में योगदान दे सकते हैं।

Dos and Don’ts for Parents अभिभावक सम्मेलन में क्या करें और क्या न करें

DOs:
1. Do attend the PTCs in the slots been given to you unless there is an emergency.
2. Both the parents will have to be present for the PTC.
3. In case you are late, you will not be able to get the allotted time with the teacher.
4. Please respect the privacy of the meeting.If a meeting is in progress or the teacher is busy, do not walk into the class. The teacher will call you in when she is ready to meet you.
5. Please bring the file with previous worksheets, pitara and any other documents as per the list sent to you.
6. Be prepared with questions that you want to ask at the conference to save time i.e. if you want specific feedback on maths or you wanted to discuss your child’s social skills etc.
7. Share information which you think is important for a teacher to know.
8. Be open to suggestions from the teacher.
9. If you wish to leave any comments/ give any feedback for the meeting, please fill in the Parents Feedback Form after PTC is over.

Don’ts
1. Please switch off your mobile phones before you enter in the classroom for the meeting.
2. Do not interrupt the teacher in between the meeting.
3. Do not exceed your allocated time limit.
4. Do not defend your child if teacher has mentioned any specific issue.
5. Do not lose control over emotions.Try to stay calm and focused on what will help the child the most.
6. Do not stray from the topic.
7. Do not discuss about the other child or the other teacher.

क्या करें :
1. यदि कोई आपात स्थिति न हो तो सम्मेलन में निर्धारित समय में ही उपस्थित हों।
2. माता- पिता दोनों की उपस्थिति अनिवार्य है।
3. यदि आपको विलम्ब हुआ, तो आबंटित किया हुआ १० मिनट का समय आपको प्रदान नहीं किया जा सकेगा।
4. कृपया सम्मेलन की गोपनीयता बनायें रखें। यदि सम्मेलन चल रहा है या शिक्षक व्यस्त हैं, तो कक्षा में ना जाएँ। जब भी शिक्षक आपसे मिलने के लिए तैयार होंगे वो आपको अंदर बुलाएँगे।
5. कृपया फाइल के साथ पुरानी वर्कशीट, पिटारा और सूची में लिखित अन्य दस्तावेजों को भी लाएं।
6. समय बचाने के लिए अपने प्रश्नों को तैयार करके आएं जैसे यदि आप गणित में कोई विशेष प्रतिपुष्टि चाहते हैं या बच्चे के सामाजिक कौशल के बारे में चर्चा करना हैं इत्यादि।
7. ऐसी जानकारी साझा करें जो आप चाहते हैं कि शिक्षक का जानना महत्वपूर्ण है।
8. शिक्षक के सुझावों को गलत नजरिये से ना देखें
9. यदि आप सम्मेलन के लिए किसी तरह की टिप्पणी करना चाहें या कोई सुझाव देना चाहें तो सम्मलेन के उपरान्त कृपया अभिभावक प्रतिपुष्टि फार्म को भरें।

क्या ना करें
1. सम्मेलन के लिए कक्षा में प्रवेश करने से पहले कृपया अपना मोबाइल फ़ोन बंद कर लें।
2. सम्मेलन के बीच में शिक्षक को हस्तक्षेप ना करें।
3. निर्धारित समय में ही बैठक समाप्त करने की कोशिश करें।
4. यदि शिक्षक कोई समस्या का उल्लेख करती हैं तो अपने बच्चे का बचाव ना करें।
5. भावुक होकर अपना संयम ना खोएं। शांत रहें व् जो बच्चे के भले के लिए है उसी पर केंद्रित रहें।
6. विषय से भटके नहीं।
7. किसी अन्य बच्चे या शिक्षक के बारे में बात ना करें।

Postponement of PTC Slot सम्मेलन के समय का पुनर्निर्धारण:

Rationale: At times there are requests from parents to change the slot because of:

– Engaged in some other work which is unavoidable.
– Out of town for some work etc.

The motto of the school is to address genuine  requests made by parents for the change in PTC slots other than slots fixed from school side.

औचित्य: कभी कभी निन्मलिखित कारणों से अभिभावक समय बदलने के लिए निवेदन करते हैं :

-किसी ऐसे कार्य में व्यस्त हो जाना जिसे टाला ना जा सके।
-किसी कार्यवश शहर से बाहर होना इत्यादि.

विद्यालय का सिद्धांत है कि नियत किये गए समय के अलावा कोई और समय के यथार्थ निवेदनों पर ध्यान देना।

Guidelines for Postponement of PTC Slot सम्मेलन के समय के पुनर्निर्धारण के लिए मार्गदर्शन ::

-If there is any genuine case or emergency then only a parent can ask for a change in PTC slot.
-For any change in date (not in time slot), parent  need to send the request by email or through letter, addressed to the Gyankriti Head Office ( support@gyankriti.com )  at least 7 days in advance, unless it’s an emergency.
-The reasons for the postponement must be mentioned in the notification to check whether the reason is genuine or not.
-If the reason is found genuine, HO will approve the same and send it to the teacher for further processing.
-The teacher then will find a mutually convenient slot before or after the regular PTC date and will inform the parent about the confirmed date and time for the meeting through diary note.
-यदि कोई यथार्थ समस्या या आपात स्थिति हो तभी अभिभावक समय बदलने के लिए कह सकते हैं।
-आपात स्थिति में तारीख में बदलाव के लिए अभिभावक को ई-मेल ( support@gyankriti.com ) या पत्र के माध्यम से कम से कम ७ दिन पहले मुख्यालय में निवेदन करना होगा।
-पुनर्निर्धारण के कारण का उल्लेख सूचना में अवश्य करें ताकि हम देख सकें कि कारण यथार्थ है या नहीं।
-यदि कारण यथार्थ है तो मुख्यालय उसे स्वीकृति देगा और आगे की प्रक्रिया के लिए उसे शिक्षक को भेजा जायेगा।
-शिक्षक सम्मेलन की तारीख के पहले या बाद का कोई उपुक्त समय निकाल कर अभिभावक को सूचित करेंगी
-यदि कारण यथार्थ है तो मुख्यालय उसे स्वीकृति देगा और आगे की प्रक्रिया के लिए उसे शिक्षक को भेजा जायेगा।
-शिक्षक सम्मेलन की तारीख के पहले या बाद का कोई उपुक्त समय निकाल कर अभिभावक को सूचित करेंगी।